ashutosh's name

ashutosh's name

भावनाओ कि निर्मम हत्या से उपजी विचारों की अनुपम अभिव्यक्ति से दुनिया को जो मुर्दा दिखा वही कविता है। सीने में तमाम तक़लीफ़ों की कबरगाह में से आज भी जैसे कोई प्रेतात्मा प्रश्न पूछ रही है कि तेरे ख्वाब कहाँ हैं, जो तूने देखे थे ? मैं कब्र देख कर फिर से हंस देता हूँ।


निशब्द निशब्द कब्र के नीचे दबा दिया है फिर भी अंदर इक चिंगारी सुलग रही है धीमे धीमे चूल्हे का ठंडा उपला हूँ फूंक तो मारो, सुलग उठूँगा धधक रहा हूँ धीमे धीमे सीख मिली है कीमत दे के अरमानो का खून किया है सिसक रहा हूँ धीमे धीमे Read more
शाकाहारी चिकन (हास्य व्यंग्य) शाकाहारी चिकन (हास्य व्यंग्य) अब जब सावन खत्म हो गया है तो इस मसले पर भी चर्चा अहम हो जाती है कि चिकन शाकाहारी है या मांसाहारी - दो दिन तक चलने वाले इस महत्वपूर्ण चिंतन बैठक में श्री राजेन्द्र जी सचान ने अध्यक्षता की , एवम उपाध्यक्ष श्री बिपिन अग्निहोत्री जी को बनाया । बैठक के अन्य... Read more
कविता (थक गया हूँ मैं) कविता (थक गया हूँ मैं) दौड़ते दौड़तेजब कहीँ नहीं पहुँचातो थक गया मैंनिडरता भी मेरे साथ साथ दौड़ रही थीलेकिन वो रास्ते मेंन जाने कहाँ पीछे रह गईशायद वो भी थक गई होगीजब देखा निडरता साथ नहीं हैतो बहुत डर गया मैंकुछ गलत नहीं किया थाफिर भी डर गया मैंअब सोचता हूँ कोई गोद में उठा केमुझे... Read more
मित्र मित्र हमको करते मिस नहीं,कइसन हो तुम तात ?आओ मिल बैठे पिये,हाला दिन और रात ।हाला दिन और रातकरें फिर मीठी बतियाँ,बहुत गए दिन मिली नहींमितरों से अँखिया ।मितरों के संग खूब चलेठेके के तीरे,चखने में काटेंगेताजे ककड़ी खीरे ।ककड़ी खीरे काजूचखने खूब तलेंगे,डिस्पोजल दारू... Read more
हताश हताश न कारवाँ न हमसफ़र , तन्हाई थी मेरी नज़र तन्हाई बस मेरी नज़र । मंजिल से भी अनजान था कुछ था तो वो सुनसान था कुछ था तो बस सुनसान था सेहरा को फिर रोते सुना उफ हाय क्या तूने चुना उफ हाय क्या तूने चुना सड़ गल चुका बस बास है ये हौसलों की लाश है मेरे हौंसलों की लाश... Read more
जीवन का संदर्भ खत्म है , जीवन का संदर्भ खत्म है , जीवन का सन्दर्भ खत्म हैस्नेहों का पर्व खत्म है।उलझे धागे बिखरे पन्ने ,रिश्तों का गन्धर्व खत्म है। समझौतों को बेंच रहे सब।लिए पोटली अरमानों की,बाँझ खेत को सेंच रहे सब।पुष्पलता सब बाण बन गए।चुभते धसते शूल कटीले ,वृक्षों के सोपान बन गए। Read more
सपने आसान क्यूँ नहीं होते? सपने आसान क्यूँ नहीं होते? हम सब लोग लगभग बचपन से ही अपने सुनहरे भविष्य की कच्ची कल्पना करने लगते हैं l और क्लास से कॉलेज तक आते आते हमें सपने ज्यादा स्पष्ट दिखने लगते हैंl एक अच्छी जॉब, अच्छा घर, गाड़ी, बीवी-बच्चेl क्या यहाँ शुरुआत कुछ गलत नहीं हुई है. एक अच्छी नौकरी। एक अच्छी... Read more
हे! प्रेयसी तेरा इंतज़ार आज भी है हे! प्रेयसी तेरा इंतज़ार आज भी है ऊफ़्फ़ हे! प्रेयसी तेरा इंतज़ार आज भी है समतल सौंधा उबड़ खाबड़ गड्ड मड्ड सा उलझा प्यार आज भी है , हे! प्रेयसी तेरा इंतज़ार आज भी है। थोड़ा नीरस थोड़ा सूखा सोये मन में प्रेम वयार आज भी है , हे! प्रेयसी तेरा इंतज़ार आज भी है। हाथ हथेली झूले पौधे तुम और मैं स्वप्न... Read more
दिल के ज़ज्बात समेट कर दिल के ज़ज्बात समेट कर दिल के ज़ज्बात समेट कर, पूरी क़ायनात समेट कर मैं लौट आया फिर वही से, अपने हालात समेट कर। सज़दे सुबह और शाम को मुहब्बत के कैसे कैसे ? कभी कन्धों पे झुक कर, कभी घुटनों से बैठ कर। कुछ फ़र्क बाक़ी है अब भी, फ़रेब में और अपनों में, ये अनुभव भी कड़वा है मेरा, मेरे... Read more
गरीब गरीब पूरी दुनिया से सोच, तू अलेहदा क्यूँ हुआ ? ज़र्द ज़ज्बात में रंग सफ़ेदा क्यों हुआ ? अनाज़ और लंगोट का संगम नहीं तुझे, ऐ गरीब तू जहान में पैदा क्यूँ हुआ ? Read more

Blog archives

We are social!

Recent posts